- Advertisement -
HomeLocal newsपंचों ने पंचायत सचिव पर लगाया मनमानी का आरोप

पंचों ने पंचायत सचिव पर लगाया मनमानी का आरोप

- Advertisement -

प्रकाशन तिथि: | सूर्य, 06 जून 2021 04:03 पूर्वाह्न (आईएसटी)

तेंदूखेड़ा (नईदुनिया न्यूज)। पंचों के साथ सरपंच, सचिव को भी पंचायतों में हो रहे सभी निर्माण कार्यों पर ध्यान देना चाहिए, लेकिन प्रखंड में कई ऐसी पंचायतें हैं जहां सचिव पंचों को कोई जानकारी देना उचित नहीं समझते हैं. ऐसी ही एक ग्राम पंचायत है कोटखेड़ा जहां पंचों ने तैनात सचिव विजय तिवारी पर मनमानी का आरोप लगाया है. जिस पर अंकुश लगाने के लिए पंचों ने जिला सीईओ को लिखित ज्ञापन दिया है. जिसमें समस्त ग्राम पंचायत में किये गये निर्माण कार्यों की जांच के साथ ही ग्राम पंचायत में प्राप्त राशि का विवरण प्रस्तुत करने की मांग की गयी है.

भले ही हम 40 साल पुराने खड़े होकर बोलते हैं

कोटखेड़ा ग्राम पंचायत नौरादेही अभयारण्य के अंतर्गत एक ग्राम पंचायत है। इसलिए अधिकारी शायद ही कभी यहां जाते हैं, इसलिए नीचे सूचीबद्ध सरकार की योजनाओं को कागजों पर संचालित किया जाता है। पंचायत के पंच जमना प्रसाद ने बताया कि गांव की जो स्थिति चालीस साल पहले थी, आज जैसी है वैसी ही है. ग्राम पंचायत में अध्यक्ष पद की राशि आ चुकी है, लेकिन इसकी फीस कागजों पर नहीं हो पाई है। जब हम बात कर रहे हैं तो मौके पर कुछ भी नहीं है। इसलिए सभी पंचों ने ग्राम पंचायत के सभी विकास कार्यों की जांच कराने के लिए पांच दिन पहले जिला सीईओ को ज्ञापन दिया है. पंच बलकेश सिंह ने बताया कि उनकी ग्राम पंचायत में सचिव की मनमानी चल रही है. गांव के लोग जब भी कोई जानकारी मांगते हैं तो सचिव डाटा के लिए उपयुक्त के तहत जानकारी देने की बात करते हैं और एक बार सही से जानकारी मांगते हैं तो वह नहीं देते।

ग्राम सभा का आयोजन नहीं किया गया

पंच मूरत सिंह ने कहा कि सभी ग्राम पंचायतों में कभी-कभी ग्राम सभाएं होती हैं, लेकिन कोटखेड़ा ग्राम पंचायत में आज तक कोई ग्राम सभा नहीं हुई. सचिव स्वयं अपने आधार पर प्रस्ताव बनाते हैं, घर से आकर समायोजित करते हैं और पंचों से हस्ताक्षर करवाते हैं और विरोध करने वाले से हस्ताक्षर नहीं करवाते हैं। इसी तरह बरेलाल ने बताया कि गांव में कई खेत तालाब व अन्य सड़कें आ चुकी हैं, जो अभी भी अधूरे हैं और ग्राम पंचायत में राशि आने की कोई जानकारी नहीं है. इसलिए सभी ने तेंदूखेड़ा जिला सीईओ के नाम लिखित शिकायत दी है और सभी की मौजूदगी में ग्राम पंचायत के पूरे दस्तावेज का निरीक्षण करने की मांग की है. साथ ही कोटखेड़ा ग्राम पंचायत में पिछले छह वर्षों में जो निर्माण कार्य हुए हैं, उनकी जांच कराई जाए।

पंचो ने एक जून को तेंदूखेड़ा जिले में आकर सीईओ की अनुपस्थिति में पंचायत निरीक्षक को ज्ञापन सौंपा था, लेकिन आज तक कोई अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा और ज्ञापन के संबंध में पूछताछ नहीं की. आरोपों को लेकर सचिव विजय तिवारी ने कहा कि सरपंच और पंचो के विवाद को लेकर पंचो ने ज्ञापन दिया है. ग्राम पंचायत में नियमित ग्राम सभाएं होती हैं, विकास कार्य भी संपन्न होते हैं और उनका सीसी भी जारी कर दिया गया है। कोटखेड़ा ग्राम पंचायत के पंचों द्वारा दिए गए ज्ञापन के संबंध में तेंदूखेड़ा जिला सीईओ विनोद जैन ने कहा कि उन्हें आपसे जानकारी मिली है, वह शिकायत के संबंध में जानकारी लेते हैं.

- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

Related News

- Advertisement -spot_img
Visit Us On FacebookVisit Us On Twitter